Tajawal

Sunday, 17 January 2016

जम्मू-कश्मीर के अति संवेदनशील पुंछ जिले के मेंढर निवासी मोहम्मद रफीक खान शनिवार को गया सैन्य अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी से सेना के अधिकारी बनकर निकले। विशेष कमीशन अधिकारी मोहम्मद खान का कहना है कि उनके सेना में शामिल होने से घाटी के युवकों में अच्छा संदेश जाएगा।
मोहम्मद रफीक खान ने कहा कि वे समाज को "मोटिवेट" कर भटके हुए बच्चों को मुख्य धारा में वापस लाने की पहल करेंगे। उनके पिता मोहम्मद शफीक खान पेशे से राजमिस्त्री हैं, जिन्होंने अपनी पुत्रियों की परवरिश व उनकी शादी के बाद मुझे पढ़ाया, ताकि मैं एक अच्छा इंसान बनकर देश की सेवा कर सकूं। मोहम्मद शफीक खान शनिवार को पुत्र को सैन्य अधिकारी के रूप में देख अपनी खुशी को छिपा नही सके। कभी पुत्र को गले लगाते तो कभी उसके माथे को चूमने लगते। उन्हें उम्मीद है कि उनका बेटा देश व राज्य का नाम रोशन करेगा।
वायु सेनाध्यक्ष ने दी बधाई
वायु सेनाध्यक्ष अरूप राहा ने मोहम्मद शफीक खान को बधाई देते हुए कहा कि उनका पुत्र मोहम्मद रफीक खान देश की आन-बान की रक्षा के लिए सेना का अधिकारी बना है। आपने अपने पुत्र को अच्छा संस्कार दिया। कमांडेंट लेफ्टिनेंट जनरल राकेश कुमार शर्मा ने कहा कि एक साल तक रफीक को अधिकारी बनाने के लिए सेना के कई अधिकारी व सैनिकों ने मेहनत की है।
Post a Comment