Tajawal

Sunday, 17 January 2016


एक आलिम शख्स
बाजार में बैठा था ,
बादशाह का गुजर
हुवा बादशाह ने
पूछा : भाई
क्या कर.रहे हो ?
आलिम ने
कहा.बन्दों की अल्लाह
से सुलह
करवा.रहा हूँ ,अल्लाह
तो मान रहा हेvमगर
बन्दे नही मान रहे है...
कुछ दिन बाद आलिम
कब्रिस्तानमें
बैठा था ,
बादशाह
का गुजरहुवा बादशाह
ने कहा भाई क्या कर
रहे हो?
आलिम ने कहा अल्लाह
की बन्दों से सुलह
करवा रहा हूँ ,आज
बन्दे तो मान रहे हैं
लेकिन आज अल्लाह
नहीं मान रहा है.....
काश इस बात
की गहराई हर
मुस्लिम समझ जाए ...
अभी वक़्त है अल्लाह
को मनाने का..
मना लिया जाए ...
इंशा अल्लाह ....आमीन
बच्चा स्कूल ना जाये
तो हम मारते हैं ,
मस्जिद न जाये
तो कोई बात नहीं .?
.
* अगर हम नॉन -
मुस्लिम कि तरह कपडे
पहनें
तो हाई स्टैण्डर्ड ,
अगर मुस्लमान
कि तरह पहनें
तो लौ स्टैण्डर्ड ,
.
* इंग्लिश सीखने
ना जाये तो मारते हैं ,
कुरान पाक ना सीखें
तो कोई बात
नहीं .?
.
* "A " फॉर एप्पल
सिखाया मगर
"A" फॉर अल्लाह
नहीं सिखाया .?
"B" फॉर बाल सिखाई
"B" फॉर
बिस्मिल्लाह
ना सिखाया .?
.
* इंडियन एक्टर
कि नक़ल करें
तो ख़ुशी होती है ,
आप (सल्लल्लाहु
अलैहि वसल्लम )
कि सुन्नत
पे अमल करें तो मज़ाक़
उड़ाते हैं ?
.
* शेयर मत करना , आँखें
बंद कर के डिलीट कर
दो ,
क्यूँ के ,
ऐसा करने से लोग
मज़ाक़ उड़ाएंगे
"ज़रा गौर
तो कीजिये हम किस
जहाँ कि तैयारी कर
रहे ह
Nice line
मिली थी जिन्दगी
किसी के 'काम' आने के लिए..
पर वक्त बित रहा है
कागज के टुकड़े कमाने के
लिए..
क्या करोगे
इतना पैसा कमा कर..?
ना कफन मे 'जेब' है ना कब्र
मे 'अलमारी..'
और ये मौत के फ़रिश्ते तो
'रिश्वत' भी नही लेते...
✔<@नमाज के 7 इनाम@>
➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
✔रोजी में बरकत
✔तन्दरुस्त सेहत
✔नेक औलाद
✔खुशहाल घर
✔दुनिया में इज्जत
✔मैदाने हश्र में जामे
कौशर
✔आखिरत में जन्नत
Post a Comment

बुलंदशहर इज्तिमा का अनछुआ सबक़-लेखक- मंसूर अदब पहासवी 9267095874

⭐   बुलंदशहर इज्तिमा का अनछुआ सबक़   ⭐ दोस्तों वैसे तो मैं किसी भीड़भाड़ वाले प्रोग्राम में कम ही जाता हूँ मगर बुलंदशहर इज्तिमा हमारे ...